रात को बस 2 लौंग और 4 बड़ी बीमारियों से छुटकारा

लौंग

लौंग एक ऐसा मसाला है जो भारत के हर रसोई घर में आसानी से मिल जाता है। ये मारे खाने को स्वादिष्ट और सुगंधित बनाने के साथ ही हमें कई रोगों से भी सुरक्षित रखता है। लौंग में भरपूर मात्रा में फाइबर और अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं जो भूख ना लगना, सर्दी –जुखाम, गैस, एसिडिटी, कब्ज की समस्या के साथी हड्डियों में होने वाली दर्द या पैरालाइसिस की समस्या को दूर करने में मददगार साबित होते हैं। इसके साथ ही जिन लोगों को शरीर में कमजोरी या थकान रहती है उन्हें भी लौंग का सेवन जरूर करना चाहिए। इसमें कई तरह के औषधीय गुण पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को फायदा पहुंचाने में मदद करते हैं।

आज हम आपको रात को सोने से पहले दो लौंग खाने के फायदों के बारे में बताएं। साथ ही ये भी बताएंगे कि इसका सेवन कब, कैसे और किस चीज के साथ करने से ज्यादा फायदा मिलता है।

लौंग का कब और कैसे करें सेवन

लौंग कई तरह के पोषक तत्व जैसे कि पोटैशियम, फास्फोरस, आयरन, ओमेगा 3 और फाइबर पाए जाते हैं । इतना ही नहीं इसमें एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं । जो हमें सर्दी जुखाम या अन्य किसी तरह के बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी से बचाते हैं। वैसे तो शरीर के लिए इसका सेवन करना किसी भी समय फायदेमंद ही होता है, लेकिन रात को सोने से पहले इसका सेवन करना आपको ज्यादा फायदा पहुंचाता है।

इसकी तासीर गर्म होती है, इसीलिए इसका ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए। हो सके तो एक हफ्ते में एक चम्मच तक ही लौंग का इस्तेमाल करना चाहिए। 1 दिन में एक या दो से ज्यादा लौंग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। रात को सोने से कम से कम 15 से 20 मिनट पहले दो लौंग का सेवन करना लाभदायक होता है। इसका सेवन आप पाउडर के तौर पर कर गुनगुने दूध या पानी के साथ कर सकते हैं।

रात को लौंग का सेवन करने के फायदे

पैरालाइसिस या हड्डियों की समस्या

जिन लोगों को पैरालाइसिस की समस्या रहती है। वन साइडेड या टू साइड इफेक्ट लाइसेंस है तो ऐसे लोगों को लौंग के तेल की मालिश और इसका सेवन करने से फायदा मिलता है। ऐसा करने से पुराने से पुरानी पैरालाइसिस और हड्यों के दर्द की समस्या ठीक हो जाएगी । इसके लिए आपको एक चम्मच जैतून के तेल में एक चम्मच लौंग का तेल मिक्स करना है और फिर इससे शरीर की अच्छी से मालिश करनी है। यदि आपके पास लॉन्ग का तेल नहीं है तो एक चम्मच जैतून के तेल में 6 से 7 लौंगे का पाउडर बना लें और उसे जैतून के तेल में मिक्स कर दें। फिर इसे अच्छे से पका लें। ध्यान रहे इस मिश्रण को आप को धीमी आंच में पकाना है। तभी इसका ज्यादा फायदा होगा।

इस तेल को ठंडा होने पर छान लें। फिर इससे पैरालाइसिस या दर्द वाली जगह पर लगा कर अच्छे से मालिश करें। ऐसा करने से शरीर कि बंद नसे खुल जाएंगी और उनमें ब्लड का सरकुलेशन अच्छे से होगा। जब बॉडी में ब्लड सरकुलेशन अच्छे से होता है, तो किसी भी तरह की बीमारी नहीं होती। पैरालाइसिस की समस्या को दूर करने के लिए यह किसी रामबाण औषधि से कम नहीं है। यदि आप इस तेल का इस्तेमाल गर्मियों में कर रहे हैं तो हफ्ते में केवल 3 से 4 बार ही इसका उपयोग करें और सर्दियों में आप इसका हफ्ते में 5 से 6 बार इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके साथ ही पैरालाइसिस के मरीज को रोजाना कम से कम 15 से 20 मिनट अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना है। ऐसा करने से आपको जल्दी फायदा मिलेगा।

पैरालाइसिस के साथ ही जिन लोगों को हाथ पैरों, कमर, गर्दनया जोड़ों में ज्यादा दर्द रहता है। वे भी इस तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। आपके शरीर में जहां भी आपको दर्द हो वहां पर जैतून और का लौंग के इस मिश्रण से बने तेल से मसाज करने पर आपको जल्दी आराम मिल जाएगा । इसके साथ ही इस तेल का इस्तेमाल करने से आपकी हड्डियां भी मजबूत होती है। शरीर में ब्लड सरकुलेशन अच्छे से होता है जिससे शरीर में होने वाली एक अकड़न और नसों में खिंचाव से भी जल्दी छुटकारा मिलता है।

भूख ना लगना

कुछ लोगों को भूख ना लगने की बीमारी होती है या खाना खाने का बिल्कुल मन नहीं करता, जिसकी वजह से शरीर में पोषक तत्व नहीं जा पाते और शरीर अंदर से कमजोर होने लगता है । शरीर में खून, हीमोग्लोबिन और आयरन जैसे पोषक तत्वों की कमी रहती है । इसके साथ ही थकान आलस और चिड़चिड़ापन रहता है। तो ऐसे लोगों को लौंग का सेवन जरूर करना चाहिए। लौंग के साथ ही इसमें कुछ और चीजें मिलाकर रात को सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से तमाम तरह की बीमारी से जल्दी छुटकारा मिल जाता है।

इसके लिए आप 2 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण के साथ दो लोगों को पीसकर पाउडर बना लें। फिर इसमें दो चम्मच त्रिफला चूर्ण मिला लें। रात को सोने से पहले एक गिलास हल्के गुनगुने पानी के साथ इस मिश्रण का सेवन करें। ध्यान रहे आपको इसका सेवन हफ्ते में केवल दो से तीन बार ही करना है। क्योंकि इस मिश्रण की तासीर गर्म होती है। इसका ज्यादा सेवन करने से नुकसान हो सकता है इसीलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करें।

सर्दी-जुखाम और खांसी

अक्सर देखा जाता है कि मौसम के बदलने के साथ ही कुछ लोगों को जल्द ही सर्दी-जुखाम, खांसी या कफ होने लगता है। अगर आपको भी ऐसी ही परेशानी होती है तो इसके लिए आपको रात को सोते समय लौंग का सेवन करना चाहिए। एक गिलास पानी में 2 लौंग कूटकर डाले. और फिर से अच्छे से उबाल लें। इसके साथ ही इस मिश्रण में आप एक टुकड़ा दालचीनी का डालें। फिर चुटकी भर हल्दी के साथ एक काली मिर्च का पाउडर भी इस मिश्रण में मिला लें और इसे धीमी आंच पर अच्छे से पकने दें।

ध्यान रहे इस पानी को तब तक उबालना है। जब तक की है एक गिलास पानी आधा गिलास ना हो जाए। इसके बाद इश काढ़े को छानकर ठंडा होने के लिए रख दें। ठंडा या हल्का गुनगुना होने पर इसका सेवन करें। ध्यान रहे इसका सेवन एक ही बार में पूरा नहीं करना है बल्कि धीरे-धीरे थोड़ा-थोड़ा पीते हुए करना है। ऐसा करने पर आपकी सर्दी खांसी जुखाम 1 दिन के अंदर ही ठीक हो जाएगा । धीरे-धीरे इस काढ़े को पीने से आप के गले में होने वाले दर्द या खरास से भी आपको जल्दी छुटकारा मिल जाएगा।

पेट दर्द

जिन लोगों के पेट में दर्द रहता है। गैस, एसिडिटी व कब्ज की बीमारी होती है या सुबह पेट ठीक से नहीं खुलता है तो ऐसे लोगों को रात में लौंग का सेवन करना चाहिए। रात को सोने से 15 से 20 मिनट पहले तो लौंग को पीसकर एक गिलास पानी में अच्छे से उबाल लें। फिर हल्का गुनगुना होने पर इसका सेवन करें। आप चाहे तो पानी की जगह दूध का सेवन भी कर सकते हैं। ऐसा करने से आपको पेट में होने वाले दर्द, कांस्टेंसी, एसिडिटी और गैस जैसी समस्याओं से जल्द ही छुटकारा मिल जाएगा। ध्यान रहे लगातार तीन महीने तक ऐसा करने से आपकी यह समस्या जड़ से खत्म हो जाएंगी। लेकिन इस काढ़े का सेवन 1 हफ्ते में एक दिन छोड़कर करें। काढ़े का रोजाना सेवन करने से बचें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here