कवि कुमार विश्वास के नाम पर ठगी करने वाला गिरफ्तार

The deceiver who stole the name of poet Kumar Vishwas

कवि कुमार विश्वास के नाम पर ठगी कर पैसों की धोखाधड़ी करने वाला एक शख़्स वाराणसी क्राइम ब्रांच द्वारा पकड़ा गया। ज्ञात हो कि कई वर्षों से डॉ कुमार विश्वास की प्रसिद्धि का फायदा उठा कर कई लोग फ़र्ज़ी नंबर व सोशल मीडिया अकाउंट का इस्तेमाल कर लोगों को भ्रमित करते रहे हैं। पूर्व में भी बिहार और मध्यप्रदेश में इस तरह की घटनाओं का ज्ञान होने पर डॉ कुमार विश्वास के कार्यालय द्वारा सम्बंधित प्रशासन को लिखित सूचना दी गयी थी। साथ ही ट्विटर व फेसबुक की रिव्यू टीम को भी समय-समय पर सैकड़ों ऐसी प्रोफाइल व पेज की सूचना दी जाती रही है जो फ़र्ज़ी हैं और उनके नाम पर लोगों को गुमराह कर रही हैं। कई लोग व्हाट्सएप्प पर भी उनकी फोटो लगाकर नंबर का दुरूपयोग करते हैं।

डॉ कुमार विश्वास के प्रतिनिधि ने बताया कि फेसबुक पर उनका एक औपचारिक व वेरिफाइड पेज, ट्विटर पर एक वेरिफाइड अकाउंट व इंस्टाग्राम पर एक अकाउंट है और इसके अलावा यूट्यूब पर एक औपचारिक चैनल है। अतः उनके नाम पर चलने वाले अन्य सभी असत्यापित पेज व अकाउंट फ़र्ज़ी है। डॉ कुमार विश्वास से फ़ोन पर संपर्क भी केवल उनके कार्यालय के औपचारिक नंबर द्वारा किया जा सकता है और उन्हीं से व्हाट्सप्प अकाउंट भी बने हुए हैं। इसके अलावा वे किसी निजी नंबर का प्रयोग नहीं करते। किन्तु कुछ लोग स्वयं को कुमार विश्वास या उनका प्रतिनिधि बताकर ठगी कर रहे हैं। कुमार विश्वास ने बताया कि इस क्रम में कुछ दिनों पहले उनके कार्यालय में सूचना आई कि कोई व्यक्ति ट्वीटर पर कई लोगों को मैसेज भेज रहा है, जिसमें वह स्वयं को कुमार विश्वास का मैनेजर बता रहा है और अपना नंबर भी दे रहा है। उनके संज्ञान में आते ही कुमार विश्वास द्वारा इन्दिरपुराम थाने में शिकायत दर्ज की गई। इधर कुमार विश्वास के कार्यालय से दिए गए नंबर पर सम्पर्क किया गया। आरोपी ने अपना नाम राहुल बताया और ख़ुद को कुमार विश्वास का प्रबंधक बताया। संपर्क करने वाले व्यक्ति ने कहा कि उसे चंडीगढ़ में एक कवि सम्मेलन करवाना है। इस पर उसने एक लाख रुपये पेशगी की माँग की। इस सम्बन्ध में उसने आयोजक बन कर बात कर रहे प्रतिनिधि को ग़ाज़ियाबाद मिलने के लिए बुलाया। प्रतिनिधि के वहाँ पहुँचने पर उसने वाराणसी में होने की बात कही और वहीँ आकर अथवा ऑनलाइन अकाउंट में पैसे जमा करने की माँग की और अकाउंट नंबर भी दिया। उक्त व्यक्ति ने अपना नाम राहुल और अपने एक साथी का नाम अमित बताया। इस सम्बन्ध में डॉ कुमार विश्वास के कार्यालय द्वारा वाराणसी के थाने में भी शिकायत दर्ज कराई गयी। इसके बाद खुद को आयोजक बता रहे डॉ कुमार विश्वास के प्रतिनिधि ने उसे वाराणसी में अपने एक साथी से पैसे दिलवाने और बदले में शो बुकिंग की रसीद लेने की बात कही। अभियुक्त ने स्वयं मुंबई में होने का हवाला देते हुए, पैसे लेने हेतु निर्धारित समय व जगह पर खुद न आकर अपने एक पार्टनर को भेजा जिसे शनिवार को वाराणसी क्राइम ब्रांच द्वारा रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया।

गिरफ्तार व्यक्ति का नाम रवि पांडेय है और पिता का नाम माता प्रसाद पांडेय है। आरोपी द्वारा दिया गया अकाउंट नंबर माता प्रसाद पांडेय नाम से अंकित है। उसके पास से दो आधार कार्ड, एक स्मार्टफोन और कुछ नगद पैसे बरामद हुए। क्राइम ब्रांच द्वारा किसी बड़े षड्यंत्र के मद्देनज़र इसकी जांच की जा रही है। अन्य आरोपी अभी फरार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here