श्राद्ध में पितरों को जल्दी प्रसन्न करने के 12 उपाय

श्राद्ध

पितृदेवों की आत्मा की शांति के लिए 15 दिनों के समय अंतराल को पितृपक्ष कहा जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार यह समय अपने पितरों को श्रद्धा पूर्वक याद करने और उनका पिंडदान करने का होता है। इस बार पितृपक्ष 2 सितंबर 2020 से 17 सितंबर 2020 तक होंगे। मान्यता है कि इस दौरान यदि आप अपने पितरों को प्रसन्न कर लेते हैं तो आपके घर परिवार में उनकी कृपा बनी रहती है। इसके अलावा आप या आपके परिवार पर कोई भी बुरा साया या दुख तकलीफ नहीं आएगी। इसके साथ ही पितृपक्ष में यदि कुछ उपाय किए जाए तो उनसे पितरों का विशेष आशीर्वाद पाया जा सकता है। इन उपायों को अपनाने से पितृदेव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी कृपा सदैव आप पर बनी रहेगी। आज हम आपको श्राद्ध के दिनों में किए जाने वाले 12 उपायों के बारे में बताएंगे। जिनको अपनाने से आपको पितरों का आशीर्वाद तो मिलेगा ही साथ ही साथ आपके सभी बिगड़े काम बनने लगेंगे और आपको धन की प्राप्ति होगी। तो चलिए जानते हैं साथ के दौरान किए जाने वाले 12 उपायों के बारे में…

1- फिर भी आपके जीवन में किसी तरह की आर्थिक समस्या है, तो सर्वपितृ अमावस्या के दिन अपने पितरों को दूध और चावल से बनी खीर का भोग अवश्य लगाएं। यदि यह भोजन उन्हें चांदी के बर्तन में परोसा जाए तो अति फलदायक होता है। ऐसा करने से आपके पितृदेव भी जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।

2- यदि आपकी कोई मनोकामना अधूरी है या आपका कोई काम बन नहीं रहा है तो ऐसे में आपको यह अचूक उपाय अवश्य अपनाना चाहिए। इसके लिए आपको सवा पाव कच्चा दूध लेना है। फिर इसे नीम, पीपल और बरगद की त्रिवेणी में अर्पित करना है। दूध अर्पित करने के बाद वृक्ष की सात बार परिक्रमा करनी चाहिए। परिक्रमा के दौरान आपको “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का जाप भी करना चाहिए।

3- पितृदेवो को जल्दी प्रसन्न करने के लिए श्राद्ध के दौरान ब्राह्मणों को श्रद्धा पूर्वक भोजन कराना चाहिए। ध्यान रहे ब्राह्मणों को भोजन कराने का शुभ समय दोपहर का होता है। इसीलिए दोपहर के समय 5, 7 या 11 ब्राह्मणों को भोजन कराएं। अपनी श्रद्धा अनुसार दक्षिणा अवश्य देनी चाहिए।

5- बिजनेस या जॉब में सफलता पाने के लिए पितरों का विशेष आशीर्वाद की अति आवश्यकता होती है। इसके लिए पितृ पक्ष की अमावस्या के दिन कच्चा दूध, 2 लौंग, थोड़े बताशे, काला तिल मंदिर में चढ़ाएं। ऐसा करने से आपके कैरियर और सफलता के बीच में आने वाली की सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी। आपको पितरों का विशेष आशीर्वाद भी प्राप्त होगा।

6- यदि परिवार में किसी का रिश्ता टूट जाता है या शादी होने में कोई परेशानी हो रही हो, तो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए श्राद्ध में नारियल का यह अचूक उपाय अवश्य करना है। इसके लिए आपको चीटियों के बिल के पास तीन नारियल के गोले जमीन में दबाने हैं। ऐसा करने से चीटियों को खाना भी मिलेगा और आपके पितृदेव भी प्रसन्न हो जाएंगे और विवाह में आ रही बाधा जल्द ही दूर हो जाएगी।

7- यदि आपके घर में आप या परिवार का कोई सदस्य बार-बार बीमार पड़ता है तो पितृपक्ष की चतुर्दशी के दिन मरीज के सिरहाने के नीचे एक लाल पोटली रखें। इस पोटली में 100 ग्राम गेहूं के दानों के साथ ₹1 का सिक्का और एक कील अवश्य रखें। फिर अगले दिन सुबह इस पोटली को पीपल के पेड़ की जड़ में गाड़ दें। वापस आते समय किसी से कोई बात ना करें। चुपचाप सीधे अपने घर आएं। ऐसा करने से पीड़ित व्यक्ति के स्वास्थ्य में जल्दी आप को सुधार देखने को मिलेगा।

8- यदि आप या आपके घर में किसी सदस्य को बुरी नजर लगी है। आपको लगता है कि आपके घर में नेगेटिव एनर्जी का वास है, तो इनसे बचने के लिए पितृ अमावस्या के दिन बबूल के पेड़ के नीचे अपने पितरों के लिए भोजन रखें। ऐसा करने से आपके पितृदेव खुश हो जाएंगे और आपको सभी तरह की बुरी नजर और नकारात्मक ऊर्जा से सुरक्षित रहने का आशीर्वाद देंगे।

9- यदि किसी की जन्म कुंडली में पितृ दोष है, तो श्राद्ध के दौरान पड़ने वाले सोमवार के दिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान करें। फिर नंगे पैर किसी शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर आर्क के 21 फूल, कच्ची लस्सी और बेलपत्र अर्पित करें। ऐसा करने से कुंडली से पितृदोष दूर हो जाएगा।

10- यदि आपके जीवन में धन का अभाव है, तो श्राद्ध के दौरान पितरों को खीर पूरी चढ़ाने के बाद 21 कन्याओं और 7 बालकों को भी खीर पूरी खिलाना चाहिए। ऐसा करने से आपके पितृदेव जल्द ही प्रसन्न होंगे और आपको धनधान्य का आशीर्वाद देंगे । जिससे आपके घर में धन का अभाव खत्म हो जाएगा । आप और आपके परिवार की आय के स्रोत भी बढ़ने लगेंगे।

11- यदि लाख लोग की कोशिशें करने के बावजूद भी आपको जीवन में सफलता नहीं मिल रही है या आप के बनते हुए कार्य बिगड़ जाते हैं तो श्राद्ध के दौरान आपको पीपल और बरगद के पेड़ अवश्य लगाने चाहिए। इसके साथ ही आपको विष्णु भगवान के मंत्र का जाप अवश्य करना चाहिए। ऐसा करने से पहले प्रसन्न होते हैं और आपको मनोकामना पूर्ति का आशीर्वाद देते हैं। जिससे आपके जीवन में खुशहाली आती है और सभी बिगड़े काम बनने लगते हैं।

12- पितृपक्ष के दौरान गाय, कुत्ते और कौवे को भोजन अवश्य कराना चाहिए। इसके अलावा साल में अपने पितरों की जयंती और बरसी अवश्य मनाएं या इस दिन घर में कोई ना कोई पूजन अवश्य करवाएं। ऐसा करने से पित्र देव प्रसन्न होते हैं और उनकी विशेष कृपा आप पर हमेशा बनी रहती है। इसके अलावा आप अपने पितरों की जयंती या बरसी के दिन प्याऊ भी बनवा सकते हैं । ऐसा करने से भी पितृदेव जल्दी प्रसन्न होकर आपको खुश रहने का आशीर्वाद देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here