साधारण नहीं होती रोने वाली महिलाएं, चुटकियों में जगा देती हैं पति की खोई हुई किस्मत

women

दोस्तों आपने अपने जीवन में ज्यादा चीखने- चिल्लाने औऱ रोने वाली औरतें देखी होंगी, और इनकी हरकतों से चिढ़कर इन्हे खूब कोसा भी होगा, लेकिन अगर आपने इन महिलाओं की सच्चाई जान ली तो आप हैरान रह जाएंगे। क्योंकि ऐसी महिलाओं का चरित्र बेहद अजीब होता है, और हर व्यक्ति के घर में एक ना एक महिला ऐसी होती है जो ज्यादा रोती और चिल्लाती है।

ऐसे में ज्यादातर लोग ऐसी महिलाओं से बोलना और बात करना पसंद नहीं करते हैं, क्योंकि अगर बातों बातों में उन्हे कोई बात बुरी लग गई तो वो रोना व चिल्लाना शूरू कर देती हैं। जिससे सामने वाले व्यक्ति का मूड खराब हो जाता है फिर लड़ाई हो जाती है।

1.होता है नाजुक स्वभाव

कहा जाता है कि महिलाओं में सबसे ज्यादा सहनशीतला होती है, इस मामले में वो पुरूषों को भी मात दे देती हैं, लेकिन लोग ज्यादा रोने औऱ चिल्लाने वाली महिलाओं को कमजोर और खराब स्वभाव का समझते हैं। लेकिन ये धारणा बिल्कुल गलत है। क्योंकि ज्यादा रोने और चिल्लाने वाली महिलाएं बेहद केमल व नाजुक स्वभाव की होती हैं जिसके कारण वो हर छोटी छोटी बात पर रो देती हैं। और फिर अपना दिल हल्का कर लेती हैं।

2.छल कपट से रहती हैं दूर

हर घर में एक ना एक महिला ऐसी होती जो बात बात पर रोती और चिल्लाती है। ऐसी औरतों से लोग दूरी बनाए रखना ही पसंद करते हैं औऱ इतना ही नहीं लोग ऐसी महिलाओं के  लिए बहुत उल्टा सीधा बोलते हैं औऱ उन्हे अपशब्द कहते हैं। लेकिन शायद आप नहीं जानते हैं कि ऐसी महिलाएं सच्चे विचारों वाली मानी जाती हैं। औऱ इनके मन में किसी भी प्रकार का छल कपट नहीं होता है।

3. दिल की साफ होती हैं ऐसी महिलाएं

चाणक्य का कहना है कि जिन महिलाओं को हर बात बुरी लग जाती है और वो बातों को दिल से लगाकर रोने लगती हैं उन मिहलाओं का दिल बहुत कोमल होता है वो कभी भी अपने प्रेमी व परिवार से अलग होना पसंद नहीं करती हैं। इसके साथ ही इनके अंदर दया की भावना होती है और ये बड़ों की कदर करना जानती हैं, कहा जाता है कि ऐसी महिलाओं को कभी भी खोना नहीं चाहिए। क्योंकि ये घर के लिए बहुत शुभ मानी जाती हैं।

4.कोमल होती हैं बात-बात पर रोने वाली महिलाएं

कुछ लोग कहते हैं कि घर की महिलाओं को रोना और चिल्लाना नहीं चाहिए इससे घर बर्बाद हो जाता है औऱ घर में कलेश होता है। लेकिन ये सोच बिलकुल गलत है। क्योंकि महिलाओं में इतनी शक्ति होती है कि वो परिवार पर आने वाली हर आपदा को पहले ही भाप लेती हैं। चाणक्य का कहना है कि मिहलाओं के रोनो और चिल्लाने से घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है। और रोने से मन शांत होता है साथ ही तनाव भी कम हो जाता है। 

5.सबके भाग्य में नहीं होती ऐसी महिलाएं

दोस्तों बात बात पर रोने और चिल्लाने वाली महिलाएं हर किसी के भाग्य में नहीं होती हैं, इनका दिल नाजुक गुड़िया के समान होता है, ऐसी महिलाएं कभी किसी का दिल नहीं तोड़ती हैं भले ही खुद कितनी भी मुश्किल दौर से गुजर रही हो। ऐसी महिलाएं हमेशा दूसरों के बारे में सोचती हैं और खुद से पहले दूसरो का पेट भरने के बारे में विचार करती हैं। कहा जाता है कि ऐसी महिलाएं जिसकी भी लाइफ में आती हैं उनकी किस्मत की रेखा बदल जाती है औऱ ये घर परिवार- सास ससुर को भी खुश रखती हैं।

दोस्तों शायद आपको जानकर हैरानी होगी कि ज्यादा रोने वाली महिलाओं के जीवन में सबसे ज्यादा दुख होता है लेकिन वो बहुत कम लोगों के साथ ही अपनी परेशानी शेयर करती हैं। औऱ बाहर से हमेशा खुश दिखती हैं। अगर ऐसी महिलाओं के दिल में झांक कर देखा जाए तो इनके भीतर बहुत गम भरा रहता है।

आगे पढ़ें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here