नेहरु का गुणगान, सरदार का अपमान, केजरीवाल बोले- बंद करो मंदिर निर्माण

Praising Nehru, insulting Sardar, Kejriwal stopped the temple construction

रविवार को सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने संबोधन के दौरान जहां एक तरफ देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जमकर तारीफ की वहीं दूसरी ओर सरदार पटेल की नवनिर्मित प्रतिमा के निर्माण को लेकर मोदी सरकार पर दबी जुबान में तंज भी भी तंज भी भी कसे। इसके साथ ही अरविंद केजरीवाल ने भाजपा की मंदिर निर्माण की राजनीति का कभी खुलकर विरोध किया। ऐसे में जब कांग्रेस भी राम मंदिर का विरोध करने से कतरा रही है तब केजरीवाल का राम मंदिर के विरोध में मुखर होकर बोलना उनके राजनीतिक भविष्य के लिए कितना फायदेमंद होगा यह तो वही जानें।

सिग्नेचर ब्रिज के निर्माण का श्रेय लेने की की रोड के बीच रविवार शाम को जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया अपने विधायकों और मंत्रियों के साथ सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर पहुंचे। अपने आधे भाषण में केजरीवाल ने जवाहरलाल नेहरू के कार्यों की जमकर तारीफ की की, जिसे देखते हुए कहा जा सकता है कि अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस से गठबंधन की अपनी चाहत को खुलकर जाहिर कर दिया है। वहीं दूसरी ओर उन्होंने स्टैचू और सिगनेचर ब्रिज की तुलना करते हुए मोदी सरकार पर तंज भी किया। केजरीवाल ने मंदिर निर्माण की राजनीति का भी खुलकर विरोध किया। केजरीवाल का यह बयान इस मौके पर आया है जब अयोध्या में श्रीराम मंदिर को लेकर बहस तेज हो चुकी।

जहां एक तरफ सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर मंदिर निर्माण का केजरीवाल ने विरोध किया, वहीं उद्घाटन के मौके पर पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को अमानतुल्लाह खान ने धक्का दिया जिसका वीडियो भी सामने आया है। यहां यह बताते चलें कि अमानतुल्लाह इस समय केजरीवाल के सबसे करीबी और खास लोगों में शामिल हैं, वो बात अलग है कि पार्टी में आने से पहले केजरीवाल ने ही अमनतुल्लाह के ऊपर दंगा कराने का आरोप लगाया था। आज केजरीवाल के लिए अमानतुल्लाह कितने खास हैं उसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कुमार विश्वास के खिलाफ बयान देने के बावजूद भी केजरीवाल ने अमानतुल्लाह को पार्टी में वापस ले लिया और प्रत्येक बड़े-छोटे कार्यक्रम में केजरीवाल के साथ अमानतुल्लाह की उपस्थिति जरूर रहती है। ऐसे में कुछ लोग यह भी आरोप लगा रहे हैं कि अमानतुल्लाह ने सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन उद्घाटन के मौके पर जो कुछ भी किया उसमें केजरीवाल की सहमति थी। यहां यह बताते चलें कि अमानतुल्लाह द्वारा मनोज तिवारी के साथ की गई धक्का-मुक्की के संबंध में अभी तक केजरीवाल ने कोई भी बयान या सफाई नहीं दी है।

पूर्वांचल से आने वाले मनोज तिवारी के साथ हुई इस धक्का-मुक्की के मामले ने ऐसा तूल पकड़ा कि लोगों ने इसे पूर्वांचल के लोगों के खिलाफ आम आदमी पार्टी की नफरत तक करार दे दिया है। आम आदमी पार्टी के ही बागी विधायक और दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया है कि

इस मौके पर कई बड़े पत्रकारों ने भी आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान की इस हरकत का खुलकर विरोध किया है और आप नेतृत्व को इस पर माफी माफी पर माफी माफी मांगने के लिए कहा है। पत्रकार एवं संपादक अजीत अंजुम ने ट्विटर पर पर लिखा है कि

भाजपा की दिल्ली इकाई के प्रदेश प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा ने इसे पूर्वांचल के बेटे पर हमला बताते हुए ट्विटर पर लिखा कि

इसे देखते हुए ये साफ़ है कि आम आदमी पार्टी के विधायक द्वारा सरेआम की गयी गुंडागर्दी को भाजपा भुनाने के मूड में है और इसका पूरा-पूरा राजनैतिक फायदा लेने की जुगत में लग चुकी है। कई पार्टियों के उत्तर प्रदेश के पूर्वाञ्चल से आने वाले नेताओं ने भी अमानतुल्लाह खान की हरकत का विरोध करते हुए आम आदमी पार्टी को इसपर माफ़ी मांगने की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here