गणपति स्थापना राशि के अनुसार ही क्यों करनी चाहिए?

गणपति स्थापना

भगवान श्रीगणेश को रिद्धि-सिद्धि का दाता माना जाता है। इसके साथ ही उन्हें शुभ लाभ के प्रदाता के रूप में भी पूजा जाता है । बप्पा अपने भक्तों को संकट में नहीं देख पाते इसीलिए उनके सभी दुख रोग दोष और समस्याओं को जल्द ही दूर कर देते हैं। कहते हैं कि गणेश जी का जन्म स्वाति राहु के नक्षत्र में हुआ था। जिस कारण उन पर राहु की महादशा लगी और उनका सिर महादेव द्वारा क्रोध में काटा गया। इसके बाद उनके धड़ के साथ हाथी के बच्चे का सिर लगाया गया। तभी से उन्हें गणपति कहा जाने लगा और इसी के साथ ही हाथियों को भी गणेश जी का प्रतीक माना जाने लगा। राशियों के अनुसार गणपति स्थापना का अलग महत्त्व है।

परम पूज्य गणेश जी का जन्म भाद्रपद की शुल्क चतुर्थी को दोपहर के समय हुआ था। इस दिन माता पार्वती द्वारा गजानन को अवतरित किया गया था। इसीलिए इसे गणेश चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन गजानन की विशेष पूजा अर्चना होती है और मंत्रोच्चारण के साथ घर में गणपति जी की स्थापना की जाती है। अपनी श्रद्धा अनुसार बप्पा को घर में 3,5,7,9 या 10 दिन के लिए स्थापित किया जाता है। फिर उनका विधि विधान पूर्वक विसर्जन कर दिया जाता है।

प्रार्थना की जाती है कि बप्पा हमारे जीवन के सभी दुख कष्टों का जल्द ही नाश कर देंगे और अगले साल जल्द ही हमारे घर पधारेंगे। यदि आप भी अपने घर में गणेश चतुर्थी के दिन विघ्नहर्ता की प्रतिमा को स्थापित करना चाहते हैं, तो आपको यह वीडियो जरूर देखना चाहिए। आज हम आपको बताएंगे कि राशि के अनुसार कौन से मंत्रोच्चारण के साथ गणपति स्थापना अपने घर में करनी चाहिए। जिससे आपको विशेष लाभ होगा और गणपति जी की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी।

राशि अनुसार गणपति स्थापना मंत्र

गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी की स्थापना करते हुए ढोल नगाड़े बजाए जाते हैं। मंत्रोच्चारण किया जाता है। बड़ी धूमधाम से गणपति बप्पा की प्रतिमा को अपने घर में लाया जाता है, तो चलिए जानते हैं कि गणपति जी की स्थापना करते हुए राशि के अनुसार करें किन मंत्रों का जाप करना चाहिए।

मेष राशि

मेष राशि वालों को गणेश जी की स्थापना करते समय “ॐ ह्रीं ग्रीं ह्रीं”इस मंत्र का जाप करना चाहिए। ऐसा करने से उनके जीवन में आ रही सभी समस्याएं जल्द ही खत्म हो जाएंगी और गणेश जी की विशेष कृपा उन पर बनी रहेगी।

वृषभ राशि

वृषभ राशि का स्वामी शुक्र ग्रह होता है, इसीलिए इन जातकों को गणपति स्थापना करते समय “ॐ वक्रतुंडाय हूं” मंत्र का जाप करना चाहिए। जिससे आपको अपने जीवन में हर क्षेत्र में तरक्की अवश्य मिलेगी।

मिथुन राशि

मिथुन राशि वाले जातकों को “ॐ गं गणपतए नमः” इस मंत्र का जाप करना चाहिए। कहते हैं इस मंत्र का जाप करने से बुद्धि और बल में विकास होता है। जिससे जातक की तार्किक क्षमता और भी ज्यादा बेहतर हो जाती है।

कर्क राशि

कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा होता है इसीलिए इस राशि के जातकों को गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी का की प्रतिमा स्थापित करते समय “ॐ वक्रतुंडाय हूं” मंत्र का जाप करना चाहिए। ऐसा करने से आपको मानसिक शांति प्राप्त होगी।

सिंह राशि

ॐ सुमंगलाये नम:” सिंह राशि वाले लोगों को गणेश चतुर्थी के दिन इस मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे आपको जीवन में आ रही सभी बाधाओं उसे तुरंत ही छुटकारा मिल जाएगा।

कन्या राशि

इस राशि वाले जातकों को गणेश जी की स्थापना करते समय “ॐ चिंतामण्ये नमः” मंत्र का जाप करना चाहिए ऐसा करने से आपकी समस्त सभी चिंताएं दूर हो जाएंगी।

तुला राशि

तुला राशि के जातकों को “ॐ वक्रतुंडाय नमः” मंत्र का जाप गणेश जी की प्रतिमा की स्थापना करते समय करना चाहिए। मान्यता है कि इस मंत्र का जाप करने से घर में रिद्धि-सिद्धि का वास होता है और सुख समृद्धि बढ़ती है।

वृश्चिक राशि

इन जातकों को गणेश चतुर्थी के दिन “ॐ नमो भगवते गजाननाय” मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और आपके घर में माता लक्ष्मी का वास बना रहेगा।

धनु राशि

गणेश चतुर्थी के दिन बप्पा की मूर्ति की स्थापना करते समय धनु राशि के लोगों को “ॐ गं गणपते” मंत्र का जाप करना चाहिए ऐसा करने से धनु राशि के जातकों की संतान संबंधी कोई भी परेशान दूर हो जाती है।

मकर राशि

ॐ गं नमः” इस राशि के जातकों को इस मंत्र का आप गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी की स्थापना करते समय अवश्य करना चाहिए। इस मंत्र का जाप करने से स्वास्थ्य संबंधी सभी तरह की समस्याएं जल्द ही समाप्त हो जाती हैं।

कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों को गणेश चतुर्थी के दिन “ॐ गण मुक्तये फट्‍” मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है और जीवन में खुशियां ही खुशियां आती हैं।

मीन राशि

ॐ अंतरिक्षाय स्वाहा” स्वाहा मीन राशि के लोगों को गणेश जी की स्थापना करते समय इस मंत्र का उच्चारण अवश्य करना चाहिए । ऐसा करने से आपके जीवन में धन संबंधी कर्ज से आपको जल्द ही छुटकारा मिल जाता है मिल जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here