रसोई घर में है 120 बीमारियों का इलाज

रसोई घर में है 120 बीमारियों का इलाज

रसोई घर के मसाले ना केवल हमारे खाना खाने का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि इनमें मौजूद औषधीय गुण हमारे शरीर में पैदा होने वाले कई तरह के रोगों से भी छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। दुनिया का सबसे बड़ा सूत्र है कि “दुनिया का सबसे बड़ा औषधि यह केंद्र हमारा रसोई घर है”। यहां पर कई तरह के मसाले उपलब्ध होते हैं। जिनका सही ढंग से प्रयोग करने पर यह हमें कई तरह की गंभीर और जानलेवा बीमारियों से बचाते हैं।

रसोई घर में है 120 बीमारियों का इलाज

आज में हम आपको राजीव दीक्षित जी द्वारा बताए गए, ऐसे कुछ मसालों के बारे में बताएंगे जिनका सेवन करने से हमारे शरीर में होने वाली 120 बीमारियां ठीक हो सकती है। इन मसालों को हमें कहीं बाहर से खरीदने की जरूरत नहीं है। यह सभी हमारे रसोई घर में आसानी से उपलब्ध होते हैं। तो चलिए जानते हैं, ऐसे मसालों के बारे में चीन का सेवन करने से हम गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं।

हल्दी

ये रसोई घर में आसानी से पाया जाने जाने वाला मसाला है। किसका प्रयोग सभी तरह के खानों में किया जाता है। इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं, जो चोट लगने सर्दी जुखाम होने या त्वचा के किसी भी तरह के रोगों से छुटकारा पाने में मदद करता है। चोट लगने पर या शरीर के किसी अंग पर दर्द होने पर एक गिलास हल्के गर्म दूध में चुटकी भर हल्दी का सेवन करने से यह अमृत के समान फल देता है।

Haldi - Turmeric

हल्दी मिले दूध का सेवन करने से आपको दर्द से तुरंत छुटकारा मिलता है और आपकी चोट भी जल्दी भर जाती है। इसके अलावा बेसन के साथ हल्दी को चेहरे पर लगाने से चेहरे पर निखार आता है। इसके साथ ही त्वचा संबंधी रोगों में भी आप हल्दी का प्रयोग कर सकते हैं। सर्दी जुकाम कफ और बात की समस्याओं होने पर हल्दी का सेवन करने से जल्दी राहत मिलती है।

जीरा

jeera

रसोई में मिलने वाला जीरा कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसको हल्का भून कर पानी के साथ खाने से पेट संबंधी बीमारियों से छुटकारा मिलता है। जिसमें गैस कब्ज एसिडिटी शामिल है। इसके अलावा उल्टी होने पर भी चेहरे को हल्का भून कर काला नमक मिलाकर पानी के साथ लेने से उल्टी नहीं होती। जीरे का इस्तेमाल ना केवल मनुष्य के स्वास्थ्य को सुधारने में किया जाता है बल्कि इसका इस्तेमाल पशुओं को भी निरोगी बनाता है।

मेथी

methi

डायबिटीज के मरीजों के लिए मेथी के दानों या उसकी हरी पत्तियों का उपयोग करना फायदेमंद होता है। मेथी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर में एक्स्ट्रा फैट को जमा होने से भी रोकते हैं। इसकी वजह से हम मोटापे से बच सकते हैं। रोजाना खाली पेट एक चम्मच मेथी के दानों को एक गिलास पानी में भिगोकर रख दें और अगली सुबह उसका सेवन करने से पेट में बनने वाली गैस, कब्ज और एसिडिटी से तुरंत छुटकारा मिलता है।

अजवाइन

ajwain

कई तरह की दवाइयां और तेल बनाने के लिए अजवाइन का प्रयोग किया जाता है। चुटकी भर अजवाइन को हल्का भून कर नॉर्मल पानी के साथ पीने से पेट के दर्द और पेट संबंधी बीमारियों से जल्दी छुटकारा मिलता है । इसके अलावा निमोनिया और स्वास्थ्य के रोगियों के लिए अजवाइन किसी रामबाण से कम नहीं है। सिर दर्द होने पर थोड़ी सी अजवाइन का चूर्ण खाने से तुरंत राहत मिलती है। दिल के मरीजों के लिए भी खाने में अजवाइन का सेवन करने से फायदा मिलता है।

दालचीनी

dalcheeni - cinnamon

दालचीनी में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। इसका का प्रयोग करने से भी पेट संबंधी बीमारी जैसे कब्ज, एसिडिटी और गैस से तुरंत छुटकारा पाया जा सकता है। कैंसर, डायबिटीज, दिल की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को अपनी डाइट में दालचीनी को अवश्य शामिल करना चाहिए। ऐसे रोगियों के भोजन में दालचीनी का उपयोग करने से उन्हें इन बीमारियों से राहत मिलती हैं। इसके अलावा बरसात के मौसम में गला खराब होने, सर्दी जुखाम लगने या कफ होने पर दालचीनी का प्रयोग करने से तुरंत ही इन सभी से राहत मिल जाती है। दालचीनी और जीरे को एक गिलास पानी में उबाल लें और फिर ठंडा होने पर इसे पीने से वजन कम होता है और हमारा इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here