मुख्यमंत्री कमलनाथ ने STEAM CONCLAVE 2019 में कहा : शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन है आवश्यक

कमलनाथ ने STEAM CONCLAVE 2019 में कहा : शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन है आवश्यक

मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने आज मिंटो हॉल में साइंस टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग आर्ट्स एवं मैथ्स (स्टीम) शिक्षा पद्धति पर आयोजित दो दिवसीय Steam Conclave 2019 के शुभारंभ समारोह पर अपने संबोधन में कहा कि शिक्षकों को आत्मचिंतन कर आने वाली पीढ़ी के शिक्षा के स्तर को किस तरह बढ़ाया एवं सुधारा जा सकता है इसके लिए कार्य करना चाहिए। शिक्षकों के इस प्रयास से शिक्षा के स्तर में बदलाव एवं बेहतरीन परिणाम देखने को मिलेंगे। यदि शिक्षक समाजसेवी के रूप में काम करेंगे तो शिक्षा संबंधित बड़ी से बड़ी समस्या को हम आसानी से हल कर पाएंगे।

 

 

हर बदलाव आलोचनाएं साथ लाता है किंतु परिवर्तन के बिना बड़े लक्ष्यों को पाना मुश्किल है।21वीं सदी में भारत में कंप्यूटर क्रांति का विरोध किया गया था कहा जा रहा था कि इससे बेरोजगारी बढ़ेगी यह बेकार की कोशिश है और पूरी दुनिया देख रही है कि आज हम आईटी के क्षेत्र में तरक्की का आसमान छू रहे हैं। इससे बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार मिला है साथ ही पूरे विश्व में भारत आईटी के क्षेत्र में छाया हुआ है।

 

समारोह में मुख्यमंत्री ने स्टीम शिक्षा पद्धति की सराहना करते हुए कहा कि बच्चों के सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास शिक्षा पर टिका होता है। उनका रूचि के साथ पढ़ाई करना अत्यंत आवश्यक है इससे उन्हें सही दिशा मिलेगी। जिससे उनका विकास होगा और वे आज की तकनीक और बदलाव से जुड़ सकेंगे।

 

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि,”स्टीम शिक्षा पद्धति विज्ञान, तकनीकी, इंजीनियरिंग, गणित और कला की पढ़ाई को न केवल रूचिकर बनाती है बल्कि इससे हमारे बच्चों का भविष्य की चुनौतियों से निपटने में भी सक्षम करती है। उन्होंने कहा कि की देश में पहली बार मध्यप्रदेश में स्टीम शिक्षा पद्धति पर विचार के लिए दो दिवसीय कॉन्क्लेव हो रहा है, जिसमें नवीनतम ग्लोबल अवधारणा पर विषय-विशेषज्ञ मंथन करेंगे। इसे कैसे लागू करें, पाठ्यक्रम में शामिल करें इस पर भी विचार होगा। मुझे विश्वास है कि इस कॉन्क्लेव के निष्कर्ष से हमारी शिक्षा पद्धति को नया आयाम हासिल होगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here