सर्दी के मौसम में बस एक चम्मच शहद, दूर करेगा शरीर का दर्द, अनिंद्रा, बल्ड प्रेशर, खांसी

honey

शहद आपकी जुबां के लिए जितना मीठा है उतना ही आपके स्वास्थ्य के लिए लाभदायक भी है। इसमें आयरन, कैल्शियम, फॉस्फेट, सोडियम, क्लोरिन, पोटैशियम और मैग्निशियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सर्दियों में आपको स्वस्थ रखने  के लिए जड़ी बूटी का काम करते हैं।

1.गले का दर्द और सर्दी होगी दूर

शहद से कई आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां बनाई जाती हैं। सेहद का सेवन करने से कफ, सीने की जकड़न औऱ गले के दर्द में आराम मिलता है। शहद को आप चाय या किसी हर्बल ड्रिंक में डालकर भी ले सकते हैं। इसके अलावा सर्दियों में शहद, नींबू और अदरक की चाय बहुत ही फायदेमंद होती है।

2.बल्ड प्रेशर की शिकायत होगी दूर

बढ़ती उम्र के साथ साथ बल्ड प्रेशर जैसी बीमारी होना आम बात है। आजकल हर 10 में से 9 व्यक्ति बल्ड प्रेशर की बीमारी से परेशान है। अगर आप भी इन्ही में से एक हैं तो रोजाना 1 चम्मच शहद खाएं। आप चाहें तो इसे गर्म पानी में मिलाकर भी पी सकते हैं। इससे ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। औऱ अगर आप अभी से ही शहद खाना शुरू कर देते हैं तो इससे आने वाले समय में आपको कभी भी बल्ड प्रेशर की प्रॉब्लम नहीं होगी।

3.कीमोथैरेपी में है फायदेमंद

कैंसर की बीमारी में कीमोथैरेपी को चमत्कार के रूप में देखा  जाता है, यदि किसी व्यक्ति की कीमोथैरेपी हुई है तो उसमें श्वेत रक्त कणिकाओं की संख्या धीरे धीरे कम होने लगती है। ऐसे में यदि शहद का सेवन किया जाए तो इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है, इसके अलावा इस थैरेपी के बाद व्यक्ति कमजोर हो जाता है जिससे खूब आलस आता है ऐसे में रोज़ाना शहद के इस्तेमाल से एनर्जी बनी रहती है और खोई हुई ताकत वापस लौटने लगती है।

4.वजन रहेगा कंट्रोल

लाइफस्टाइल में बदलाव के कारण वजन बढ़ना आम बात है। जिस भी व्यक्ति का वजन ज़रूरत से ज्यादा बढ़ जाता है उसे तमाम तरह की बीमारियां भी घेर लेती हैं। अगर आपका भी वजन ज्यादा बढ़ गया है और कंट्रोल नहीं हो रहा है तो रोज़ाना शहद का सेवन करें। शहद भूख को नियंत्रित करता है, जिससे वजन कम होता है। रात को सोने से पहले शहद का सेवन करने से ज्यादा कैलोरी बर्न होती है। इसके अलावा आप चाय, कॉफी या किसी भी वेट लूज ड्रिंक में चीनी की बजाए शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं, इससे वजन कंट्रोल में रहेगा, और फिर आपका जो मन करे आप खा सकते हैं।

5.चोट लगने पर करें शहद का इस्तेमाल

सर्दियों में चोट लगने भर से ही व्यक्ति कांप उठता है, लेकिन अगर ये चोट घाव बन जाए तब औऱ ज्यादा तकलीफ होती है। ऐसे में शहद का इस्तेमाल आपको घाव से बचाता है, क्योंकि शहद एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक की तरह काम करता है, जो कि‍सी घाव या अन्य परेशानियों में जीवाणुओं को फैलने से रोकता है और यह शरीर के अंदर और बाहर एक ही तरह से काम करता है। चोट पर शहद लगाने से चोट जल्दी ही ठीक हो जाता है, क्योंकि शहद घाव या चोट को सड़न से बचाता है।

6.खांसी से परेशान हैं तो करें शहद का सेवन

तमाम औषधिय गुणों से भरपूर शहद खांसी से भी बचाता है। खांसी में काली मिर्च, लौंग का चूर्ण या फिर तुलसी के रस के साथ शहद का रोज़ाना सेवन करें। इसके अलावा सर्दी जुकाम जैसी समस्याओं में भी शहद बेहद फायदेमंद होता है। गर्म प्रकृति का होने के कारण यह कफ को जमने से रोकता है, औऱ शरीर में भी गर्माहट बनाए रखता है। जिससे खांसी, सर्दी और जुकाम जैसी परेशानियां दूर रहती हैं। इसके साथ ही शहद, नीबू और अदरक का मिश्रण मिनटों में सर्दी को दूर भगा सकता है। शहद और नींबू का रस समान मात्रा में मिलाएं। इसमें अदरक का पाउडर डालकर दिन में 3 से 4 बार इसका सेवन करें।

7.एनर्जी होगी बूस्ट

शहद में मौजूद ग्लूकोज को शरीर तुरंत एब्सोर्ब कर लेता है, जिससे दिनभर बॉडी में एनर्जी बनी रहती है। साथ ही एक्सरसाइज से पहले 1/2 चम्मच शहद खाने से थकान महसूस नहीं होती। आप चाय या कॉफी में चीनी की बजाए शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं, और अगर आपको आलस आता है या जिम जाने औऱ योगा करने के बाद शरीर में दर्द रहता है, थकान महसूस होती है तो इस स्थिति में भी शहद बड़े काम की चीज़ है, रोज़ाना सुबह आधे चम्मच शहद खाने से शरीर में पूरे दिन एनर्जी बनी रहती है।

8.नींद की बीमारी में है फायदेमंद

डॉक्टर्स और हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि, शहद से सेरोटोनिन कैमिकल निकलता है, जो मूड को अच्छा बनाता है। दरअसल, शरीर इस सेरोटोनिन कैमिकल को मेलाटोनिन केमिकल में बदल देता है, जो खराब नींद के लिए जिम्मेदार होता है। ऐसे में अगर आपको भी अनिद्रा की समस्या है तो रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध में शहद मिलाकर पिएं। इससे नींद अच्छी आएगी।

शहद खाते समय ध्यान रखने वाली बातें

1.जितना हो सके गहरे रंग का शहद ही खाना चाहिए।

2.एक साल से कम उम्र के बच्चों को शहद नहीं खिलाना चाहिए क्योंकि उसमें बोटुलिज्म बैक्टीरिया के जीवाणु हो सकते हैं जिसकी वजह से शिशु बीमार हो सकता है।

3.शहद मीठा होता है इसलिए इसका सेवन ज़रूरत से ज्यादा नहीं करना चाहिए।

आगे पढ़ें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here