LATEST ARTICLES

शारदीय नवरात्रि

शारदीय नवरात्रि 2020 : जानें महत्व, पूजा विधि और कथा

चैत्र मास के नवरात्रों के बाद अश्वनी मास के नवरात्रों का अपना एक अलग ही महत्व है। इसे शारदीय नवरात्रि भी कहते हैं। शास्त्रों के मुताबिक यदि कोई भी व्यक्ति पूरी श्रद्धा भाव और...
भौम प्रदोष व्रत

भौम प्रदोष व्रत : हर कर्ज से छुटकारा पाने का सुनहरा मौका, 29 सितम्बर...

सनातन धर्म में पूजा पाठ करने और व्रत या उपवास रखने का बहुत महत्व माना जाता है । मान्यता है कि सच्चे मन से कोई भी व्रत रखने से व्यक्ति की मनचाही इच्छा अवश्य...
नवरात्रि

पितृपक्ष के बाद शुरू नहीं होंगे नवरात्र, 165 साल बाद बना ये संयोग

सनातन धर्म में नवरात्रि के 9 दिनों का बहुत ही खास महत्व होता है हर बार श्राद्ध खत्म होने के अगले दिन से ही नवरात्रि का पर्व शुरू हो जाता है और इसके साथ...
नाश्ते में ये खाएं

नाश्ते में ये अपनाएँ, चुस्त और तंदरुस्त हो जाएँ

अष्टांग हृदयं में कहा गया है कि जिस भोजन को सूर्य के प्रकाश ने स्पर्श ना किया हो और पवन ना मिली हो, ऐसे भोजन को कभी नहीं खाना चाहिए। ऐसा भोजन जहर के...
विश्वकर्मा जयंती

विश्वकर्मा जयंती 16 सितंबर 2020 : जानें महत्व, शुभ मूहुर्त, पूजा विधि और कथा

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान विश्वकर्मा ने सभी देवी देवताओं के भवनों और मंदिरों का निर्माण किया। इतना ही नहीं उन्होंने देवताओं के अस्त्रों और शस्त्रों का निर्माण भी किया था। पौराणिक कथाओं...
रसोई घर में है 120 बीमारियों का इलाज

रसोई घर में है 120 बीमारियों का इलाज

रसोई घर के मसाले ना केवल हमारे खाना खाने का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि इनमें मौजूद औषधीय गुण हमारे शरीर में पैदा होने वाले कई तरह के रोगों से भी छुटकारा दिलाने में मदद...
पितृ दोष

पितृ दोष से छुटकारा पाने के 10 उपाय

यदि आपके जीवन में किसी भी शुभ कार्य करने में बार-बार अड़चनें आ रही हैं। आपके जीवन में धन का अभाव है। घर में कोई भी मांगलिक कार्य नहीं हो पा रहा है। आपकी...
घर में झाड़ू

भूलकर भी इस दिन बाहर ना फेंके पुरानी झाड़ू नहीं तो रूठ जाती हैं...

अक्सर आपने अपने घर के बड़े या बुजुर्ग लोगों को कहते सुना होगा कि झाड़ू को पैर नहीं लगाना चाहिए। लेकिन क्या आप इसके पीछे की वजह जानते हैं? दरअसल हिंदू शास्त्रों में झाड़ू...
पितृपक्ष

पितृपक्ष में भूलकर भी न करें ये काम, हो जाएँ सावधान!

हिंदू पुराणों और शास्त्रों में पितरों और पूर्वजों को देवताओं के समान माना गया है, इसीलिए पितृपक्ष में पितरों के नाम पर दान किया जाता है, तर्पण दिया जाता है और उनका श्राद्ध किया...
श्राद्ध

श्राद्ध में पितरों को जल्दी प्रसन्न करने के 12 उपाय

पितृदेवों की आत्मा की शांति के लिए 15 दिनों के समय अंतराल को पितृपक्ष कहा जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार यह समय अपने पितरों को श्रद्धा पूर्वक याद करने और उनका पिंडदान करने...