लाखों की दवाइयों से नहीं दिखा फायदा, केवल 1 तेजपत्ता ने कर दिखाया कमाल

tejpatta

तेज पत्ता को मसालों की जान कहें तो कोई हैरानी की बात नहीं होगी, ये हर किचन में बड़ी आसानी से मिल जाता है। तेज पत्ता केवल खाने का ज़ायका ही नहीं बढ़ाता है बल्कि इससे डायबिटीज़, कैंसर, आंख और दांत से जुड़ी दिक्कतें, फंगल, और सूजन जैसी तमाम बीमारियों का भी इलाज किया जा सकता है। इसमें कई औषधिय गुण पाए जाते हैं और इसी के कारण करीब 1 हज़ार वर्षों से तेज पत्ता का इस्तेमाल तमाम तरह की आयुर्वेदिक दवाइयों को बनाने में किया जाता है।

1.डायबिटीज के लिए तेज पत्ता के फायदे

खानपान में बदलाव या ज्यादा मीठा खाने वाले लोगों में डायबिटीज की परेशानी होना आम बात है, आजकल हर दूसरा व्यक्ति डायबिटीज का शिकार है। लेकिन शायद आपको जानकर हैरानी होगी कि आपके किचन में मौजूद केवल एक तेज़पत्ता ही आपके डायबिटीज का जड़ से इलाज कर सकता है। डायबिटीज की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए तेज पत्ते का सेवन बहुत फायदेमंद है। आयुर्वेद के अनुसार 30 दिन तक टाइप 2 डायबिटिज से पीड़ित मरीजों को तेज पत्ते का कैप्सूल खाना फायदेमंद माना गया है।

2. कैंसर से बचाव में सहायक

कैंसर जैसी बीमारी का अभी तक कोई सटीक इलाज नहीं खोजा गया है, लेकिन खानपान में बदलाव से इस भयानक बीमारी से बचा सकता है, तेज पत्ता भी कैंसर से बचाव में एक भायदेमंद औषधि है। तेज पत्ता कैंसर कोशिकाओं को पैदा नहीं होने देता है और इसके विकास को रोक देती है। इसमें पाए जाने वाले गुण पेट के कैंसर से बचाव कर सकते हैं।

3. किडनी समस्याओं से बचाव

किडनी और पेशाब की नली में मौजूद पथरी को तोड़कर बाहर निकालने में तेज पत्ता को एक असरदार घरेलू उपचार माना जाता है। किडनी स्टोन में तेज पत्ते के अर्क का इस्तेमाल किया जाता है। यह किडनी की मांसपेशियों को सीधे आराम देने में हेल्प करता है। तेज पत्ते में लॉरिक एसिड पाया जाता है, जो किडनी की समस्याओं से राहत दिला सकता है।

4.बालों का झड़ना रोके

अगर आपके बाल झड़ रहे हैं और लाखों उपाय करने के बाद भी बालों का झड़ना बंद नहीं हो रहा है तो तेज पत्ते को पानी में उबालें और उससे बालों को अच्छी तरह से धो लें। हालांकि ध्यान रहे उससे पहले बालों को शैम्पू से धोना जरूरी है जिससे वो ठीक से साफ हो जाएं। यह बालों को झड़ने से रोकने में भी काफी आपकी मदद करता है।

5. फंगल इन्फेक्शन से बचाए

तेज पत्ता में एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं। ये खासतौर से कैंडिडा एल्‍बीकैंस नाम के यीस्ट संक्रमण के खिलाफ लड़ता है। इसलिए, त्वचा संबंधी फंगल संक्रमण के लिए तेज पत्ते का एसेंशियल ऑयल इस्तेमाल में किया जाता है। ये किसी भी तरह के चोट और फंगल इन्फेक्शन के लिए बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा शरीर में होने वाले सफेद दाग का भी इलाज तेजपत्ता के पाउडर के किया जा सकता है। जो लोग रोज़ाना एक तेज पत्ता चबाते हैं उनमें फंगल इंफेक्शन का खतरा नहीं रहता है।

आगे पढ़ें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here