गोंद कतीरा रखेगा हरदम जवान, 90% बीमारियाँ रहेंगी हमेशा दूर

गोंद कतीरा

लंबी उम्र तक जवां बने रहना, शीघ्रपतन और स्वप्नदोष जैसी सेक्सुअल समस्याओं से छुटकारा पाने का एक मात्र उपाय है- गोंद कतीरा। गोंद कतीरा में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं। जिनका उपयोग गले की खराश, खांसी, दस्त, आदि रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है। इतना ही नहीं, इसका इस्तेमाल दवाओं के साथ ही सौंदर्य प्रोडक्ट्स, एनर्जी ड्रिंक्स और आइसक्रीम बनाने में भी होता है।

अगर आप भी हमेशा जवां दिखना चाहते हैं तो गोंद कतीरे का इस्तेमाल जरुर करें। आज हम आपको गोंद कतीरे के सेवन से ठीक होने वाली कई बीमारियों के बारे में बताएंगे।

एंटी एजिंग

गोंद कतीरे में भरपूर मात्रा में एंटी एजिंग तत्व मौजूद होते हैं। दो अंडे के सफेद भाग में एक चम्मच मिल्क पाउडर और भीगा गोंद कतीरा मिला कर पेस्ट बना लें। फिर इसे चेहरे पर लगा लें।ऐसा करने से स्किन टाइट रहती है और आप हमेशा जवां दिखते हैं।

माइग्रेन और डिप्रेंशन

गोंद कतीरे दिमाग तक ब्लड पहुंचाने वाली ब्लॉक नसों को खोलता है, जिससे माइग्रेन और डिप्रेंशन में राहत मिलती है। इतना ही नहीं इसके सेवन से जी मिचलाने और सिर के भारीपन से भी छुटकारा मिलता है।

टांन्सिल

ये टांन्सिल की समस्या से जल्दी राहत पाने के लिए 2 भाग कतीरा और 2 भाग नानख्वा नाम की बूटी को बारीक पीस लें। अब इसे धनिया पत्ती के रस में मिलाकर रोजाना गले पर लेप लगाएं । इस करने से जल्दी ही आराम मिलेगा। इसके अलावा लगभग 10 से 20 ग्राम कतीरा को पानी में भिगोकर फुला लें और फिर इसे मिश्री में मिलाकर सुबह-शाम पिने से टांन्सिल से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा।

इम्यून सिस्टम

कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को गोंद कतरे का सेवन करना चाहिए। इसके लिए 1 चम्मच गोंद को रात भर पानी में भिगो दें। फिर सुबह इसका पौष्टिक पेस्ट बनाकर रोज एक चम्मच सेवन करें। आप इस पेस्ट में अंडा, बादाम पाउडर और दूध भी मिला सकते हैं। ये पेस्ट कमजोर तंत्रिका तंत्र, चिंता और अवसाद के अलावा ज्यादा और कम विटामिन डी के स्तर वाले लोगों के लिए लाभकारी होता है।

थकान एवं कमजोरी

गोंद कतीरा न केवल महिलाओं बल्कि पुरुषों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। ये शरीर की थकान और कमजोरी दूर करता है। आधी चम्मच गोंद कतीरे को एक गिलास दूध के साथ मिलाकर पीना चाहिए।

प्रेग्नेंसी

डिलीवरी के पहले या बाद में गोंद कतीरे का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है। ये डिलीवरी के बाद होने वाली कमजोरी और माहवारी से होने वाली परेशानी से राहत दिलाता है। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को गोंद के लड्डू बनाकर खिलाने चाहिए।

स्वप्नदोष

अगर आपको स्वप्नदोष की परेशानी है, तो आप रोज रात में सोने से पहले एक गिलास दूध में गोंद कतीरा मिलाकर पिएं। इसके अलावा ये पुरुषो में शीघ्रपतन (Premature ejaculation) जैसी समस्‍याओं का रामबाण इलाज है।

बीपी

बीपी से परेशान लोगों को गोंद कतीरे का सेवन करना चाहिए। रातभर आधी चम्मच गोंद कतरे को पानी में भिगोने के बाद, सुबह मिश्री मिला कर पीने से रक्तचाप की समस्या से छुटकारा मिलता है।

खून को करे साफ

गोंद कतीरे में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और फॉलिक एसिड पाया जाता है, जो खून को साफ करने में मदद करता है। 10 से 20 ग्राम मात्रा भिगो लें और उसी पानी में मिश्री मिलाकर रोज सुबह शर्बत की तरह पीने से ये शरीर में मौजूद खून को साफ करता है।

मोटापा

गोंद कतीरा मोटापा कम करने में भी मदद करता है। ये पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है, जिससे भूख भी नियंत्रित रहती है और शरीर में एक्स्ट्रा फैट नहीं जमा हो पाता है।

शरीर का तापमान

गोंद कतीरा खाने से शरीर का तापमान के कंट्रोल रहता है। इसके सेवन से हाथ और पैरों की जलन भी कम होती है। रात में 2 चम्मच गोंद कतीरा को एक गिलास पानी में भिगो दें। सुबह इसके फूल जाने पर इसमें शक्कर मिलाकर खाने से शरीर का तापमान सामान्य रहता है।

पीरियड्स

कुछ महिलाओं को पीरियड्स नियमित नहीं होते हैं या दर्द ज्यादा होता है, तो उनके लिए भी गोंद कतीरा बहुत उपयोगी होता है। गोंद कतीरा और मिश्री को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। फिर दो चम्मच कच्चे दूध के साथ मिला कर इसका सेवन करें। इससे शरीर में फॉलिक एसिड और खून की कमी नहीं होती है और पीरियड्स में होने वाली समस्या से जल्द ही छुटकारा मिलता है।

गोंद कतीरा के अन्य फायदे

1. इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल शरीर के आग से झुलसने पर किया जाता है। गोंद कतीरा का एक पेस्ट तैयार किया जाता है फिर इसे प्रभावित जगह पर लगाया जाता है। जिससे जलन कम होती है और फफोले भी कम होते हैं या होते ही नहीं ।

2. गोंद कतीरा में बहुत से पोषक तत्व पाए जाते हैं, जिसकी वजह से हर्बल आयुर्वेदिक चिकित्सा में खांसी और दस्त का इलाज करने के लिए इसका बहुत उपयोग किया जाता है।

3. गोंद कतीरा ट्यूमर को कम करने में भी सहायक होता है। इसीलिए इसका इस्तेमाल ट्यूमर के ईलाज के लिए भी किया जाता है ।

4. गोंद कतीरा दिल की धड़कन को नियमित करता है। रातभर में पानी में कुछ गोंद कतीरा भिगो कर रख दें। फिर सुबह इस पानी इसका सेवन करें। ऐसा करने से शरीर में रक्त का संचार ठीक से होगा जिससे दिल स्वस्थ रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here