ये 5 जूस खून और हीमोग्लोबिन की कमी को करेंगे जड़ से खत्म

रात में अच्छी नींद लेने के बाद भी सुबह उठने पर होने वाली थकान और कमजोरी किसी बड़ी बीमारी का लक्षण हो सकती है। दरअसल, यह आपके शरीर में होने वाली एनीमिया यानी खून की कमी हो सकती है। जब हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो जाती है, तो हमें कमजोरी का अहसास होता है। सांस लेने में दिक्कत होती है थकान लगती है और इसके साथ ही पूरे शरीर में दर्द होता है। आज हम आपको शरीर में होने वाली आयरन और खून की कमी को दूर करने के लिए 5 ऐसे जूस के बारे में बताएंगे, जिनका नियमित और सही तरीके से सेवन करने से आप शरीर में खून या हीमोग्लोबिन की कमी के साथ ही गंभीर और खतरनाक बीमारियों से बच सकते हैं।

कब और कैसे करें सेवन

खून की कमी पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा होती है। जिस कारण महिलाएं थकान और कमजोरी महसूस करती हैं। इतना ही नहीं उनके हाथ पैरों में भी दर्द रहता है। यदि आपको या आपके परिवार में किसी और को भी खून की कमी के साथ ही डायबिटीज, हार्ट ब्लॉकेज, ब्लड सरकुलेशन, हाई बीपी, कैंसर या बाल झड़ने की समस्या रहती है; तो आपको इन 5 तरह के जूस का सेवन जरूर करना चाहिए।

ध्यान रहे इनका सेवन आपको एक ही दिन नहीं करना है; बल्कि अलग-अलग दिन एक गिलास से ज्यादा नहीं करना है। नहीं तो यह फायदा पहुंचाने की बजाय ये आपको नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। हम आपको जूस को बनाने का सही तरीका और सेवन करने का सही समय भी बताएंगे तो चलिए जानते हैं ऐसे पांच जूसों के बारे में जिनसे हमारे शरीर में खून बढ़ेगा और हम कई गंभीर रोगों से बच सकते हैं। ध्यान रहे इन जूसों का सेवन हफ्ते में 3 या 4 बार से ज्यादा नहीं करना है।

खून और हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए 5 जूस

लौकी का जूस

लौकी का जूस

बाजार में दो तरह की लौकी मिलती है। एक लंबी वाली और दूसरी गोल वाली। हमें लंबी वाली लौकी के जूस का सेवन करना है। जूस बनाने से पहले हमेशा लौकी को एक बार थोड़ा-सा टेस्ट करके जरूर देखें। ध्यान रहे लौकी कड़वी नहीं होनी चाहिए। इसके साथ आप किसी भी अन्य सब्जी को नहीं मिलाना है। केवल लौकी का ही एक गिलास जूस निकालें। आप अपने स्वाद को बढ़ाने के लिए इसमें पुदीने और धनिया के साथ ही एक छोटे अदरक के टुकड़े भी मिला सकते हैं।

यदि आप चाहें तो इसमें एक आधा नींबू का रस भी मिला सकते हैं, ताकि आपको लौकी का जूस पीने में आसानी रहे । लगातार हफ्ते में 2 से 3 बार लौकी के जूस का ऐसे सेवन करने से आपके शरीर में होने वाली खून की कमी को दूर होगी। इसके साथ ही अगर आपके शरीर में बनने वाला खून अशुद्ध होगा तो वह भी शुद्ध हो जाएगा।

इतना ही नहीं इससे आपको स्किन से जुड़ी किसी भी तरह की बीमारी से भी छुटकारा मिल जाएगा, क्योंकि शरीर में खून की अशुद्धि के कारण त्वचा से संबंधित कई तरह के रोग खुजली दाद कील मुंहासे या पिंपल्स यह तमाम तरह के रोग होते हैं। इसके अलावा बालों का झड़ना भी कम हो जाएगा। आपके बाल मजबूत और काले रहेंगे। लौकी का जूस आपकी आंखों की रोशनी को भी बढ़ाने में मदद करता है।

गिलोय का जूस

गिलोय

जिन लोगों के जोड़ों, हाथ पैरों में ज्यादा दर्द रहता है। हड्डियां कमजोर होती है या हड्डियों से कट कट की आवाज आती है। इसके अलावा जिन्हें आर्थराइटिस की समस्या रहती है। उन लोगों के लिए गिलोय का जूस पीना बहुत ही फायदेमंद होता है। गिलोय का जूस उसके फल से नहीं बल्कि उसके तने से बनाया जाता है । आप इसे गिलोय का काढ़ा भी कह सकते हैं। इसका सेवन करने से शरीर मे खून की कमी तो दूर होती ही है साथ ही सर्दी खांसी, जुखाम, बुखार जल्द ही ठीक हो जाता है।

इसके साथ ही गिलोय के जूस से हमारा इमन्यू सिस्टम भी मजबूत होता है। गिलोय का जूस बनाने के लिए इसके तने के 5 से 6, 2 सेंटीमीटर के छोटे-छोटे टुकड़े करें और उसे दो गिलास पानी में अच्छी तरीके से उबाल लें। फिर तीन से चार काली मिर्च को कूटकर पाउडर बना लें और फिर गिलोय के काढ़े में डाल दें। इसे अच्छी तरीके से उबलने दें। ध्यान रहे इस पानी को तब तक उबलने देना है; जब तक की ये एक गिलास ना बन जाए।

इसके बाद इसको ठंडा होने पर छानकर, इस काढ़े का सेवन करें। नियमित रूप से सुबह उठकर खाली पेट गिलोय के इस काढ़े का सेवन करने से ये आपको कैंसर, डायबिटीज और दिल से जुड़ी समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है।

करेले का जूस

करेले का जूस

दोस्तों भले ही करेले का जूस कड़वा होता है लेकिन यह आपके जीवन में कड़वाहट भरने वाले रोगों से आपको छुटकारा दिलाता है । जिन लोगों को डायबिटीज, हाई बीपी या हार्ट से जुड़ी कोई भी समस्या है। उनके लिए करेले का सेवन करना बहुत ही फायदेमंद होता है। ध्यान रहे इसका सेवन आपको हफ्ते में केवल एक से दो बार ही करना है। इससे ज्यादा नहीं और दिन में केवल एक गिलास इसका सेवन किया जा सकता है।

चलिए जानते हैं करेले के जूस को बनाने का तरीका। आपको एक से दो करेले लेने हैं। उन्हें अच्छे से हल्का छिल लें और फिर इसके बीज निकालकर इसका जूस बना लें। आप चाहे तो इसमें अपने स्वाद के लिए सेंधा नमक और नींबू का रस भी मिला सकते हैं। डायबिटीज के मरीज इसमें हो सके तो जामुन की गुठलियों का पाउडर मिलाकर भी इसका सेवन करें। ऐसा करने से आपको डायबिटीज की समस्या से जल्दी छुटकारा मिल जाएगा। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर में बढ़ने वाली एक्स्ट्रा इंसुलिन की मात्रा को कंट्रोल करते हैं। जिससे डायबिटीज कंट्रोल हो जाता है।

इसके साथ ही करेले का जूस पीने से शरीर में ब्लड का सरकुलेशन अच्छे तरीके से होता है। जिससे हॉर्ट अच्छे से कम करता है । इसके अलावा हाई बीपी के साथ ही ये हार्ट अटैक, हार्ट ब्लॉकेज या शरीर में होने वाली ब्लड ब्लॉकेज को भी रोकता है।

अनार का जूस

अनार

गर्भवती महिलाओं के लिए अनार का जूस पीना बहुत ही फायदेमंद होता है । इससे मां और बच्चे दोनों को ही भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मिलते हैं । जिससे दोनों ही हेल्दी रहते हैं। अनार में पाए जाने वाले कैल्शियम, विटामिन, आयरन अन्य पोषक तत्व में हमारे शरीर में आयरन और खून की कमी के साथ ही हमें कई तरह की गंभीर रोगों से बचाते हैं। अनार का जूस पीने से हार्ट ब्लॉकेज कोलेस्ट्रॉल, हाई बीपी या पेट की समस्या से जल्दी छुटकारा मिलता है। ध्यान रहे अनार के जूस का सेवन सुबह नाश्ते में या दोपहर के खाना खाने के कम से कम आधे घंटे के बाद करना चाहिए । कभी भी अनार के जूस का सेवन रात को नहीं करना चाहिए।

अनार हमारे शरीर में खाने को पचाने में सहायता करता है। जिससे कि हमारा खाना जल्दी पचता है और हमारा इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। यह शरीर में ब्लड सरकुलेशन को ठीक रखता है। अनार का जूस शरीर में हार्ट ब्लॉकेज या खून के क्लॉट्स बनने से रोकता है इतना ही नहीं यह हमारे सही में एक्स्ट्रा फैट और कोलेस्ट्रॉल को भी कम करने में मदद करता है और हमें मोटापे या दिल की किसी भी तरह की बीमारियों से बचाता है। आप हफ्ते में 2 से 3 बार एक गिलास अनार के जूस का सेवन कर सकते हैं।

आप चाहे तो इसमें स्वाद अनुसार सेंधा नमक, धनिया या नींबू के रस का एक चम्मच भी मिलाकर पी सकते हैं। लगातार 90 दिनों तक अनार का जूस पीने से पुरुषों में होने वाली सेक्स समस्याओं को भी यह दूर करता है। इसीलिए महिलाओं और खास तौर पर पुरुषों को अनार के जूस का सेवन जरूर करना चाहिए।

तरबूज का जूस

तरबूज

शरीर में गिरते ब्लड की लेवल को सुधारने के लिए तरबूज का जूस एक अच्छा विकल्प है। ये गर्मियों में होने वाली पेट की समस्या, लू लगना, घबराहट या चेहरे पर होने वाली टेनिंग, कील मुहांसों के साथ ही डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी की समस्या को दूर करने के लिए तरबूज का जूस सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। ध्यान रहे तरबूज का सेवन हमेशा धीरे-धीरे या कम मात्रा में ही करना चाहिए, नहीं तो यह हमारे शरीर में ग्लूकोस का लेवल बढ़ा देता है।

जिससे शुगर लेवल बढ़ता है इसीलिए 1 दिन में एक गिलास तरबूज के जूस का सेवन करना चाहिए; इससे ज्यादा नहीं। हफ्ते में बस 2 से 3 बार इसका सेवन करें। लगातार या रोज तरबूज के जूस का सेवन करने से बचें। इसके लिए एक ताजी तरबूज का जूस निकालने और फिर इसका सेवन करें । आप चाहे तो तरबूज के रस में सेंधा नमक का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसके अलावा पुरुष और महिलाओं में होने वाली यौन संबंधी समस्याओं को भी दूर करने के लिए तरबूज के जूस का सेवन जरूर करना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here