घर की बेटी को भूलकर भी ना दें ये 1 चीज़ नहीं तो सड़क पर आ जाएगा पूरा परिवार

shadi

बेटियां हर घर की लक्ष्मी होती हैं। हिंदू धर्म में महिलाओं औऱ घर की बेटियों को माता लक्ष्मी, मां सरस्वती और मां दुर्गा का अवतार माना गया है। कहा जाता है कि जिस घर में बेटियां नहीं हैं या जिस घर में बेटियों की इज्जत नहीं होती है, उस घर के लोग जीवन में कभी भी कामयाबी हासिल नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा शास्त्रों में कुछ ऐसी भी चीज़ों के बारे में बताया गया है, जो घर की बेटियों को भूलकर भी नहीं देना चाहिए, ऐसा करने से घर बर्बाद हो सकता है।

लड़कियों को ना दें भगवान गणेश की मुर्ती

दोस्तों अक्सर आपने देखा होगा कि शादी विवाह में लड़की को लोग तमाम तरह के गिफ्ट्स और शगुन देते हैं। लेकिन उनमें कुछ चीज़ें ऐसी भी होती हैं जो बेटियों को नहीं देनी चाहिए। जैसे भगवान गणेश की मूर्ती और तस्वीर। ये बात सुनकर आपको शायद हैरानी होगी लेकिन यही सच है।

शास्त्रों में भगवान गणेश को परमपुजणीय माना गया है। इन्हे सभी देवी देवताओं में सबसे पहला स्थान प्राप्त है। भगवान गणेश जहां भी रहते हैं उस घर में कभी भी परेशानियां औऱ कलेश आसपास भी नहीं भटकती हैं। लेकिन ये भी उतना ही सच है कि बेटी की विदाई में भूलकर भी भगवान गणेश की प्रतिमा नहीं देनी चाहिए। तो चलिए जानते हैं ऐसा क्यों……

मायके में होती है धन की कमी

दरअसल शास्त्रों में बेटियों को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। ऐसे में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश का एक साथ होना धन के आगमन का संकेत देता है। जिस घर में भी माता लक्ष्मी और भगवान गणेश एक साथ होते हैं उस घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है। ऐसे में अगर आप माता लक्ष्मी की विदाई में उनके साथ गणेश जी को भी भेंट में दे देते हैं तो बेटी के मायके में धन की कमी हो जाती है।

shadi

क्योंकि पिता अपने घर की लक्ष्मी को तो विदा करता ही है साथ ही गणेश जी को भी भेंट में दे दिया जाए तो मायके वालों का सर्वनाश हो जाएगा। क्योंकि बेटियां घर की सुख ममृद्धी को साथ ले जाती हैं जिससे भयंकर गरीबी आ सकती है। इसलिए कभी बी बेटियों की विदाई के समय गणेश जी की तस्वीर औऱ मूर्ती को तोहफे में नहीं देना चाहिए।

बेटी से तोहफे में मांगे भगवान गणेश

दोस्तों कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बेटी विदा करते समय उसे गणेश की प्रतिमा भेंट में दे चुके हैं जिसके कारण उन्हे भयंकर गरीबी का सामना करना पड़ रहा है, और उन्होने इस बात पर ध्यान भी नहीं दिया है तो अब जितनी जल्दी हो सके इस गलती को सुधार लें।

इसे सुधारने के लिए आप अपनी बेटी से गणेश जी की कोई भी मूर्ती या प्रतिमा वापस तोहफे में मांग लें। अगर वो वही गणेश की प्रतिमा को वापस दे देती है जो आपने उसे विदाई के समय दिया था तो ये बहुत अच्छी बात है, लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पाता है तो कोई भी मूर्ती तोहफे में ले लें। बेटियों की तरफ से दिए जाने वाले इस गिफ्ट को बहुत शुभ माना जाता है। क्योंकि बेटियों को लक्ष्मी माना गया है और अगर घर की लक्ष्मी गणेश की मूर्ती तोहफे में देती है तो इससे धन की वर्षा होती है।

मूर्ती खरीदते समय ध्यान रखें कुछ बातें

लेकिन अगर आप गणेश जी की कोई नई मूर्ती खरीदना चाहते हैं तो उस समय कुछ बातों का ध्यान रखना होता है। जैसे गणेश जी की सूंढ की दिशा किस तरफ है, आपको हमेशा वही मूर्ती खरीदनी चाहिए जिसमें गणेश जी की सूंढ बाईं तरफ हो।

जिस मूर्ती की सूंढ दाईं तरफ होती है उसे भी शुभ माना जाता है। लेकिन उस मूर्ती की पूजा पाठ की विधि बाकियों से बिलकुल अलग होती है। और अगर सही तरीके से पूरे विधि विधान से पूजा ना किया जाए तो इससे फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है। इसके अलावा आप गणेश जी की मूर्ती ना लेकर तस्वीर ले रहे हैं तो इस बात का भी खास ध्यान रखें कि उस तस्वीर में गणेश जी की लंबाई 18 इंच से कम ना हो।

आगे पढ़ें-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here