भौम प्रदोष व्रत : हर कर्ज से छुटकारा पाने का सुनहरा मौका, 29 सितम्बर 2020

भौम प्रदोष व्रत

सनातन धर्म में पूजा पाठ करने और व्रत या उपवास रखने का बहुत महत्व माना जाता है । मान्यता है कि सच्चे मन से कोई भी व्रत रखने से व्यक्ति की मनचाही इच्छा अवश्य पूर्ण होती है। वैसे तो हर महीने कोई ना कोई व्रत या उपवास होता ही है। हर महीने दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि के दिन शाम के समय को प्रदोष कहा जाता है। इस दिन व्रत रखने से व्यक्ति के जीवन में आने वाली सभी कठिनाइयां दूर हो जाती हैं। हिंदू धर्म के अनुसार प्रदोष के समय भगवान शिव कैलाश पर्वत में अपने रजत भवन में नृत्य करते हैं। इसी दौरान उनके भक्तगण भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखते हैं।

कहते हैं कि प्रदोष व्रत रखने से जीवन के सभी प्रकार के दोष और कष्ट समाप्त हो जाते हैं। हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार कलयुग में प्रदोष व्रत रखने का और भी महत्व बढ़ जाता है। इससे भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है । प्रदोष व्रत को बाकी सभी व्रतों से ज्यादा शुभ और महत्वपूर्ण माना जाता है। आज हम आपको प्रदोष व्रत के बारे में बताएंगे। साथ ही यह भी बताएंगे कि भौम प्रदोष व्रत रखने से कैसे आप अपने जीवन के सभी धन संबंधी कार्यों से कैसे छुटकारा पा सकते हैं।

प्रदोष व्रत का महत्व

प्रदोष व्रत रखने से जीवन के सभी पापों का नाश होता है और मृत्यु होने के बाद व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। पुराणों में प्रदोष व्रत रखने का पुण्य 2 गायों को दान करने के बराबर माना गया है। इस दिन व्रत रखने और भगवान शिव की पूजा अर्चना करने का विशेष महत्व होता है।

कर्ज से छुटकारा पाने के लिए रखें भौम प्रदोष व्रत

जीवन में लगभग हर व्यक्ति को कभी ना कभी धन का अभाव होता है । इस कारण उसे किसी अन्य व्यक्ति से कर्जा देना पड़ता है। कोई भी व्यक्ति कर्ज से जल्द ही मुक्ति पाने की हर संभव कोशिश करता है, लेकिन कभी-कभार व्यक्ति की स्थिति ऐसी हो जाती है कि वह अपने धन संबंधी कार्जों से छुटकारा पाने में असमर्थ होता है या लाख कोशिशें करने के बावजूद भी वह कर्ज से छुटकारा नहीं पा सकता। इस तरह की स्थिति से छुटकारा पाने के लिए मंगलवार का भौम प्रदोष व्रत एक लाभकारी व्रत है। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है ।

इसके साथ ही यह व्रत करने से मंगल ग्रह की भी शांति होती है और व्यक्ति के जीवन में मंगल ग्रह के कारण मिलने वाले सभी अशुभ प्रभाव और दुख दुखों में कमी आती है। प्रदोष व्रत जीवन में किसी भी तरह के कर्ज से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित होता है।

नियम

1. इस दिन व्रत रखने वाले व्यक्ति को निर्जल रहकर व्रत का पालन करना होता है। सुबह उठकर स्नान करने के बाद भगवान शिव या शिवलिंग पर बेलपत्र और शमी के फूल अर्पित करने चाहिए और धूप दीप जलाना चाहिए। फिर शाम के समय फिर से स्नान कर भगवान शिव की विधि विधान पूर्वक पूजा अर्चना करनी चाहिए।

2. मान्यता है कि कर्ज से मुक्ति पाने के लिए फॉर्म प्रदोष व्रत वाले दिन भगवान शिव की पूजा करने के बाद हनुमान चालीसा का पाठ करना भी लाभदायक होता है

3. इसके अलावा भौम प्रदोष व्रत के दिन मंगल देव के 21 या 108 नामों का जाप करने से किसी भी व्यक्ति को धन संबंधी कर्जे से जल्द ही मुक्ति मिल जाती है।

4. भौम प्रदोष व्रत के दिन किसी भी हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। इसके साथ ही बजरंगबली के प्रिय बूंदी के लड्डू उन्हें अर्पित करने चाहिए और अन्य भक्तों में भी यह प्रसाद के रूप में वितरित करने चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here